Theme Preview Rss

मेरे अरमानों का घोडा :)

कई दिनों से कुछ लिखा नहीं तो सोचा अपने अरमानो के घोडे को ही थोडा उड़ने दूँ और जब उसने उड़ना शुरू किया तो उड़ते - उड़ते यहाँ पहुँच कर यहीं पर चिपक गया... :))

7 comments:

Anil said...

घोडा बहुत सुंदर है. आशा है कि आगे हाथी-शेर वगैरह भी उडायेंगे! :)

MARKANDEY RAI said...

udaate rahe... man lagega

SWAPN said...

tumhare armanon ka ghoda apni manzil par pahunche, mer shubhkaamnayen.

Parul Singh said...

hey

though new but its good!!

a good strt of smth diff

my wishes

अभिन्न said...

पुनीत भाई बहुत सुन्दर ,कुछ न लिखकर भी आपने बहुत कुछ लिख दिया घोडे का स्केच बहुत आकर्षक लगा ,लेकिन उसके माध्यम से जो आप कहना चाहते हो ओर जो भी पाठक पढना चाहता है उसके लिए बहुत बड़ा स्कोप रह जाता है .अरमानों का घोड़ा .....उड़ान भर रहा है ...सफलता के लिए बहुत ही प्रेरक, सव्पनो की दुनिया का रास्ता खुलता हुआ नज़र आ रहा है .....बढे चलो बढे चलो ........चरैवेति चैरेवेती

QUIETUDE N said...

its amazing to see similar thoughts in different minds...impressive sketch and the poem above is wonderful...the title of the song is CHOTEY DAY coz it was my best frnd's birthday...a kind of tribute to her...

प्रकाश बादल said...

अरे वाह तुम तो अच्छे स्कैच भी बनाते हो।

Related Posts Widget for Blogs by LinkWithin