Theme Preview Rss

रे मर जाएगा क्यूँ सोंचे है ...

कल क्या होगा,क्यूँ सोंचे है
मर जाएगा, क्यूँ सोंचे है ॥

खुद को तक, गिरवी रक्‍खा है
बिक जाएगा ,क्यूँ सोंचे है

अपना घर कितना अपना है
वो आएगा ,क्यूँ सोंचे है ॥

शेर नहीं दिल, के छाले हैं
वो समझेगा ,क्यूँ सोंचे है ॥

बीत गया जो, रीत गया जो
फ़िर लौटेगा ,क्यूँ सोंचे है ॥

अर्श है बेबस ,इस दुनिया में
पछतायेगा , क्यूँ सोंचे है ॥

प्रकाश"अर्श"
http://prosingh.blogspot.com/

0 comments:

Related Posts Widget for Blogs by LinkWithin