Theme Preview Rss

ज़रूरत थी जब...

ज़रूरत थी जब किसी अपने की
मैं खुदा को ढूंढ़ लाया ......


जरुरत थी जब किसी अपने की,मैं खुदा को ढूंड लाया..
वो आशना भी आया जब ना-आशनाको ढूंड लाया ...

credits: Mr. Prakash Singh 'Arsh'
http://prosingh.blogspot.com/


जरुरत थी जब किसी अपने की मै खुदा को ढूंढ़ लाया
बेवफा बेगैरतों की बस्ती से मै एक वफ़ा को ढूंढ़ लाया
तन्हाई न करे महशूस रात भर कहीं अँधेरे उस घर के
मेरे दिल की तरह जलती है जो उस शमा को ढूंढ़ लाया

credits: Mr. "SURE"
http://dreamstocometrue.blogspot.com/

6 comments:

विनय said...

नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ, यह आपके लिए सुख व समृद्धि लाये। शुभ वर्ष 2009!

"अर्श" said...

प्यारे छोटे भाई पुनीत,
जरुरत थी जब किसी अपने की,मैं खुदा को ढूंड लाया..
वो आशना भी आया जब ना-आशनाको ढूंड लाया ...

ये कैसी है .....

अर्श

आशना=परिचित ,
ना-आशना =अपरिचित

Puneet Sahalot 'Ajeeb' said...

thank u very much bhaiya....

aapne jo likha hai wo haqiqat bayaan karta hai...

once again, thnx a lot...

:))

अल्पना वर्मा said...

wah !bahut khuub!

do lines se ek sher..arsh ji ne banaa diya ab isee sey ek ghazal likh daliye!

bahut hi sundar micro -kavita rahi yah to!

naya saal bahut bahut shubh aur mangalmay ho.

"SURE" said...

.पुनीत जी आपके शेर को पढ़ा ,आपको बुरा तो लगेगा की मैंने बिना इजाजत आपके शेर में कुछ उल जलूल पंक्तिया जोड़ दी .
जरुरत थी जब किसी अपने की मै खुदा को ढूंढ़ लाया
बेवफा बेगैरतों की बस्ती से मै एक वफ़ा को ढूंढ़ लाया
तन्हाई न करे महशूस रात भर कहीं अँधेरे उस घर के
मेरे दिल की तरह जलती है जो उस शमा को ढूंढ़ लाया
दुसहास के लिए क्षमा .....
आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा

Puneet Sahalot 'Ajeeb' said...

"SURE" bhaiya...
aap mere blog par aye... or mera blog padha uske liye dhanyawad...
mujhe is baat ki khushi h ki aapne meri ek line ko pure sher me badal diya. main apka abhari hun.

main khud kuch aage likhna chahta tha par likh nahi paa raha tha isiliye 'arsh' bhaiya se aage kuch likhne ka anurodh kiya. unhone ise age badhaya. main unka bhi aabhari hun.


aapne jo bhaav vyakt kiye hain, usi prakar se me bhi kuchh likhna chahta tha par thodi pareshani ho rahi thi jo aapne hal kar di...

ek baar fir se bahut bahut dhanyawad...
:))

Related Posts Widget for Blogs by LinkWithin